खतरनाक है ऐल्युमिनियम के बर्तन


राजीव भाई

हमारे देश में एल्यूमिनियम के बर्तन 100-150 साल पहले ही आये हैं उससे पहले धातुओं में पीतल, काँसा, चाँदी, फूल आदि के बर्तन ही चला करते थे और बाकी मिटटी के बर्तन चलते थे। अंग्रेजों ने जेलों में कैदियों के लिये ऐल्यूमीनियम के बर्तन शुरु किये क्योंकि उसमें से धीरे-धीरे विष हमारे शरीर में जाता है। ऐल्यूमीनियम के बर्तन के उपयोग से कर्इ प्रकार के गंभीर रोग होते हैं जैसे अस्थमा, वात रोग, टी.बी. शुगर आदि । पुराने समय में फूल और पीतल के बर्तन होते थे जो स्वास्थ्य के लिये अच्छे माने जाते हैं यदि संभव हो तो वही बर्तन फिर से लेकर आयें, हमारे पुराने वैज्ञानिकों को मालूम था कि एल्यूमीनियम बाक्साइट से बनता है और भारत में इसकी भरपूर खदानें हैं फिर भी उन्होंने एल्यूमीनियम के बर्तन नहीं बनाये क्योंकि यह भोजन बनाने और खाने के लिए सबसे घटिया धातु है इससे अस्थमा, टी.बी., वात रोग में बढ़ावा मिलता है इसलिये एल्यूमीनियम के बर्तनों का उपयोग बन्द करें ।
.

एलुमिनियम


Nov 26, 2013


Join WhatsApp : 7774069692
स्वदेशीमय भारत ही, हमारा अंतिम लक्ष्य है |

मुख्य विषय main subjects

     

    आने वाले कार्यक्रम आने वाले कार्यक्रम

      और...




       Share on Facebook   


    दिनांक : 23 - 25 दिसम्बर 2016 
    स्थान  :  हाईलैंड  पार्क ,
                 डी मार्ट के पीछे ,
                  कोलशेट रोड,
                  कपूरबावाड़ी जंक्शन,
                 ठाणे वेस्ट 
                                    23  दिसम्बर 2016 
                सुबह 09 : 30 से 12 : 30 तक चिकित्सा परामर्श 
              दोपहर 02 : 30 से 05 : 30 तक चिकित्सा परामर्श 
              रात    07 : 00 से 09 : 00 तक व्याख्यान 
                                        24 दिसम्बर 2016 
              सुबह 09 : 30 से 12 : 30 तक चिकित्सा परामर्श 
              दोपहर 02 : 30 से 05 : 30 तक चिकित्सा परामर्श 
               रात    07 : 00 से 09 : 00 तक व्याख्यान 
                                     25 दिसम्बर 2016 
              सुबह 09 : 30 से 12 : 30 तक चिकित्सा परामर्श 
              दोपहर 02 : 30 से 05 : 30 तक चिकित्सा परामर्श 
              रात    07 : 00 से 09 : 00 तक व्याख्यान 
     संपर्क : 8380027016 , 9970666201 
    आप सभी इस शिविर का लाभ अवश्य लें तथा व्याख्यान तीनो दिन जरूर सुनें |