स्वदेशी चिकित्सा भाग-२

स्वदेशी चिकित्सा घरेलू तरीकॉं से स्वस्थ रहने की कला महान ऋषि वागभटट द्वारा रचित अष्टांगह्रदयम पर आधारित यह किताब बीमार होने के बाद किस तरह हम उन बीमारियों का इलाज कर सकते हैं । इसकी जानकारी मिलती हैं । अलग - अलग तरह से औषघियां बनाना, क्वाथ बनाना और आयुर्वेद औषघियों के बारे में जानकारी देती है । शल्य चिकित्सा को छोड्कर लगभग सभी बीमारियों के बारे में विस्तार से जानकारी मिलती हैं ।

 स्वदेशी चिकित्सा भाग-२ पीडीऍफ़ फाइल

May 28, 2014


Join WhatsApp : 7774069692
स्वदेशीमय भारत ही, हमारा अंतिम लक्ष्य है |

मुख्य विषय main subjects

     

    आने वाले कार्यक्रम आने वाले कार्यक्रम



       Share on Facebook   


     राजीव भाई की सातवीं
    पुण्यतिथी पर आयोजित स्वदेशी चिंतन समारोह 

     28,29,30 नवम्बर 2017 को निश्चित हुआ है | आप सभी इस समारोह में सादर आमंत्रित है |

     स्थान : स्वदेशी ग्राम,



           पवनार रोड,



           सेवाग्राम, वर्धा,



           महाराष्ट्र- 442102



     संपर्क : शुल्क आदि की
    जानकारी के लिए 8380027016 / 8380027017 

            इन
    नंबरों पर संपर्क करें 
    या whatsapp  कर सकते हैं |

     संपर्क समय : सुबह 11:00
    बजे से शाम 06:00 
    बजे तक 

                { सोमवार से शनिवार, रविवार अवकाश रहता है }