स्वदेशी चिकित्सा भाग 1

स्वदेशी चिकित्सा घरेलू तरीकॉं से स्वस्थ रहने की कला महान ऋषि वागभटट द्वारा रचित अष्टांगह्रदयम पर आधारित यह किताब बीमारीओं से पहले स्वस्थ रहने के नियमों पर विशेष जानकारी देती हैं । अलग - अलग मॉसमों में किस तरह का खान-पान होना चाहिए । इसकी जानकारी मिलती हैं । अपने शरीर में वात, पित्त, कफ की स्थिति को जानते हुए किस तरह का खाना लेना हैं इसकी जानकारी ले सकते हैं । और पानी पिनें के नियमों की जानकारी मिलती हैं ।

स्वदेशी_चिकित्सा_भाग_1 पीडीएफ_कापी

स्वदेशी चिकित्सा भाग-२

स्वदेशी चिकित्सा भाग-३

स्वदेशी चिकित्सा भाग-४

Aug 27, 2014


Join WhatsApp : 7774069692
स्वदेशीमय भारत ही, हमारा अंतिम लक्ष्य है |

मुख्य विषय main subjects

     

    आने वाले कार्यक्रम आने वाले कार्यक्रम

      और...




       Share on Facebook   


     राजीव भाई की सातवीं
    पुण्यतिथी पर आयोजित स्वदेशी चिंतन समारोह 

     29,30 नवम्बर 2017 को निश्चित हुआ है | आप सभी इस समारोह में सादर आमंत्रित है |

     स्थान : स्वदेशी ग्राम,



           पवनार रोड,



           सेवाग्राम, वर्धा,



           महाराष्ट्र- 442102



     संपर्क : शुल्क आदि की
    जानकारी के लिए 
    8380027019

            संपर्क समय : सुबह 11:00
    बजे से शाम 06:00 
    बजे तक 

                { सोमवार से शनिवार, रविवार अवकाश रहता है }